खालसा सर्जना दिवस पर सजा चार दिवसीय कीर्तन दरबार…..

आगरा, 11.04.2018, (अमन गुप्ता) : आज दिनांक 11 2018 को गुरुद्वारा श्री कल की घर प्रधान त्रिलोक सिंह ओबराय ने बताया 16 से 99 ईसवी की शादी वाले दिन विश्व इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ जिसका उदाहरण मैं आज तक ना ही और ना ही शायद आने वाले समय में होगा इस दिन श्री गुरु गोविंद सिंह जी ने ऊंची नीची आवाज से ऊपर उठकर व्यक्ति जिन्होंने स्वयं प्रेरणा से अपने आप को गुरु चरणों में शामिल कर दिया और गुरु जी ने अमृत पान किया कलांतर में वह पांच प्यारे कहलाए जाते हैं. जिनका सिख धर्म में विशेष सम्मान है इन पांच प्यारों को अमृतपाल करा कर फिर खुद गुरू जी ने मुझ से अमृतसर गोविंद राधे गोविंद सिंह बने किसी दिन खालसा पंथ सिख धर्म की सजना ऐसा विश्व में कहीं नहीं है किसी गुरु ने अपने शिष्य के आगे नतमस्तक होकर चालू हो यह पावन दिन तेरे 4 2018 को वैशाखी पर्व पूरे विश्व में मनाया जाता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.