जंडियाला गुरु पुलिस चौकी की खस्ता हालत, कभी भी गिर सकती है आज़ादी के पहली की इमारत….

अमृतसर,जंडियाला गुरु, 13.04.2018, (प्रदीप जैन,गुलशन विनायक) : जंडियाला गुरु में शहर के मध्य स्थित पुलिस चौकी नजदीक महसुलियाँ दरवाजा आजादी के पहले की बनी हुई है और आज अपनी तकदीर पर रो रही है।क्योंकि इस पुलिस चोंकी की इमारत बहुत पुरानी होने के कारण  के कारण इस कि आयु खत्म हो गई है और वहां किसी बड़े हादसे को अंजाम दे सकती हैं। पुलिस चौकी की इमारत नही रही बल्कि एक खण्डर बन के रह गया है।पुलिस चौकी में जहां मुजरिमों को पकड़ कर रखते हैं उस कमरे का दरवाजा भी नही है औऱ पुराने बालों की छत होने के कारण कब गिर जाए पता ही नही।

जब बारिश होती है तो बारिश का पानी नीचे काम कर रहे पुलिस मुलाजिमों पर गिरता है। जब बारिश होती है तो लोग अपने अपने घरों की छतों के नीचे भागते हैं मगर जंडियाला गुरु के  पुलिस चौकी के मुलाजिम चोंकी की छतों से बाहर खुले में भागते हैं कहीं यह छतऐ उन के ऊपर न गिर जाए।पुलिस चौकी में कोई बाथरुम नहीं। गर्मी हो या सर्दी हो वही खुले में पुलिस मुलाजिमों को नहाना पड़ता है। कोई रसोईघर का इंतजाम नहीं ।जहां तक किसी सिलसिले में वहां पर 10-15 लोगों का जमावड़ा हो जाता है तो वहां बैठने का प्रबंध नहीं। पुलिस मुलाजिमों को रात को सोने के लिए बिस्तर नहीं। जंडियाला गुरु की आबादी लगभग 40000 हैऔर पुलिस चौकी में मुलाजिमों की गिनती 4से 5 ही रहती है।अगर कहीं पर कोई वारदात हो जाती है तो पुलिस मुलाजिम वहां नहीं पहुंच पाते क्योंकि यह एक एएसआई ओर एक सहायक तो कोर्ट में ही रहते है।पुलिस चौकी में लगभग12 मुलाजिमों का होना अनिवार्य है अगर मुलाजिम नही होंगे तो पुलिस मौके वारदात पर कब आएगी।पुलिस चौकी का गेट छोटा होने के कारण और बाज़ार तंग होने के कारण एमरजेंसी में  पुलिस गाड़ी  के आने जाने पर भी दिक्कत आती है ।पुलिस चोंकी में  एक दो  कमरों की छत भी गिर चुकी है।

जंडियाला पुलिस पुलिस चौकी के साथ जंडियाला गुरु का एक पुरातन महसुलियाँ दरवाजा भी  जिस की हालात काफ़ी नाजुक है वो अभी भी लोगों के ऊपर गिर सकता है यह पुरातन महसुलियाँ दरवाजा भी अपनी बिगड़ी हालत बयां कर रहा है। पुलिस चौकी के बिल्कुल सामने बच्चों ही एक सरकारी प्राइमरी स्कूल भी है जिस में रोजाना बच्चे  शिक्षा ग्रहण करने आते हैं  मगर बच्चो को नही पता कि वो किसी बारूद के ढेर पर बैठे हो क्योंकि स्कूल और पुलिस चौकी एवं पुरातन महसुलियाँ दरवाजे का कोई पता नहीं कि वह कब इन मासूम बच्चों पर गिर पड़े।

क्या पुलिस हाईकमान किसी बड़े हादसे के बाद हरकत में आएगी। जंडियाला गुरु के लोगों की पंजाब के मुख्यमंत्री सरदार अमरिंदर सिंह से निवेदन है कि वह जल्द से जल्द जंडियाला गुरु की पुलिस चौकी ओर कुछ मुर्दा हो चुकी इमारतों के बारे कुछ सोचिए।

कुछ दिन पहले जंडियाला गुरु के विधायक सुखविंदर सिंह डैनी ने इन मुर्दा हो चुकी इमारतों का निरीक्षण किया था और उन्होंने जंडियाला गुरू के लोगों को आश्वासन दिया था कि जल्द से जल्द इन इमारतों को पुणे लोगों को समर्पित किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.