सर्वधर्म समिति ने दिया शहर की शांत फिजा को खराब करने वाले असामाजिक तत्वों के खिलाफ जिलाधिकारियों को ज्ञापन…..

आगरा, 01 अगस्त, (कासिद अहमद) : शहर में शांति सर्वधर्म सद्भाव को कायम रखने के लिए सर्वधर्म सद्भाव समिति द्वारा आज जिलाधिकारी को ज्ञापन दिया गया। ज्ञापन समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष शेख मोहम्मद शफीक बाबा लाल शाह कादरी के नेतृत्व में दिया गया। ज्ञापन के माध्यम से आगरा प्रशासन को अवगत कराया गया कि श्रवण मास का पवित्र माह चल रहा है। प्रशासन के द्वारा यदि परिक्रमा मार्ग पर शराब और मांस, बिक्री पर रोक लगाई है उसका समिति और उसके पदाधिकारी उस फैसले का स्वागत करते हैं ।लेकिन इसकी आड़ में कुछ असामाजिक तत्व शहर की शांत फिजा को बिगाड़ने की नापाक कोशिश कर रहे हैं ।ऐसा ही एक मामला विगत दिनों 29-7- 2018 को बोदला स्थित ऐतिहासिक सराय में दरगाह नबी कदम रसूल पर देखने को मिला। दोपहर की नमाज के दौरान कुछ 25-30 असामाजिक लोगों ने मोटरसाइकिल पर आकर धार्मिक नारेबाजी की और आपत्तिजनक नारे लगाए। लेकिन स्थानीय नागरिक और समिति के जिम्मेदार पदाधिकारियों ने उस समय सूझबूझ का परिचय देकर उस टकराव को टाला और तत्काल पुलिस चौकी पर सूचना दी। जैसे कि सभी को जानकारी है कि इस श्रवण मास में ही बकरा ईद पड़ रही है। तो ऐसे में बड़ी सतर्कता की जरूरत है। आगे शहर में किसी भी तरह के टकराव की स्थिति पैदा ना हो। इस को ध्यान में रखते हुए समिति के लोगों ने जिलाधिकारी को ज्ञापन दिया। ज्ञापन देने वालों में प्रमुख रूप से राष्ट्रीय अध्यक्ष शेख मोहम्मद शफीक लाल शाह कादरी, राष्ट्रीय महामंत्री कुलदीप सक्सेना, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सरदार रघुविंदर सिंह, प्रदेश अध्यक्ष पंडित दुर्गेश शुक्ला, यूथ प्रदेश अध्यक्ष गौरव धवन, विधि सलाहकार एडवोकेट रविकांत गुप्ता, मंडल कार्यालय प्रभारी मोहम्मद सलमान शेख, प्रदेश सचिव लोकचंद चंदवानी, नीरज शुक्ला, पीरजादा आमिर शेख, आशिक अली, राकेश अग्रवाल,कासिद अहमद, साबिर अंसारी आदि मुख्य रूप से मौजूद रहे। वहीं ज्ञापन लेने के बाद आगरा के जिलाधिकारी ने समिति के लोगों को आश्वासन दिया ऐसे असामाजिक तत्वों के साथ सख्ती से निपटा जाएगा और आने वाले उत्सव की आड़ में कोई असामाजिक तत्व शहर की शान फिजा को ना बिगाड़ सके ऐसे लोगों के साथ सख्त कार्रवाई का आश्वासन जिलाधिकारी महोदय ने समिति के पदाधिकारियों को दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.