“अपनी, जड़ों से साथ जुड़ो” कार्यक्रम – बर्तानवी नौजवान लुधियाना में स्वतंत्रता दिवस समारोह में लेंगे भाग – पंजाबी मूल के 14 बर्तानवी नौजवान करेंगे पहली बार पंजाब का दौरा….

लुधियाना, 07 अगस्त, (परमिंदर सिंह हरमिंदर मक्कड़) : पंजाब सरकार की तरफ से शुरू किये गए प्रोगराम ’अपनी, जडा़ें के साथ जुड़ो’ के अंतर्गत इंग्लैंड से आने वाले नौजवान 15 अगस्त को लुधियाना में होने वाले राज्य स्तरीय स्वतंत्रता दिवस समारोह में विशेष मेहमान के तौर पर पहुँचेंगे। पंजाबी मूल के 14 नौजवानों का पहला बैंच 7 से 16 अगस्त तक राज्य का दौरा कर रहा है। इस ग्रुप में 16 -22 साल की उम्र के आठ लड़के और छह लड़कियाँ शामिल हैं।
डिप्टी कमिश्नर श्री प्रदीप कुमार अग्रवाल ने बताया कि इन नौजवानों के दौरे के अहम पलों में स्वतंत्रता दिवस समारोह के अवसर पर लुधियाना में होने वाले राज्य स्तरीय समागम में शिरकत करना भी है, जिसकी अध्यक्षता मुख्य मंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह करेंगे। इस मौके कैप्टन अमरिन्दर सिंह निजी तौर पर भी इनें नौजवानों से मिलेंगे। पंजाब सरकार की तरफ से इन नौजवानों के रहन सहन के प्रबंधों के अलावा प्रमुख स्थानों पर जाने और अन्य कार्यक्रमों के लिए यातायात की सुविधा मुहैया करवाई जा रही है। इन नौजवानों की तरफ से राज्य में धार्मिक, संस्कृतिक और ऐतिहासिक महत्व वाले विभिन्न स्थानों पर भी जाने का प्रोगराम है।
श्री अग्रवाल ने बताया कि यह नौजवान तारीख 14 अगस्त को जिला लुधियाना में पहुँचेंगे, जहाँ कि वह बुद्ध धर्म से सम्बन्धित धार्मिक स्थान और पंजाब कृषि यूनिवर्सिटी का दौरा करेंगे। दूसरे दिन 15 अगस्त को स्थानिक गुरू नानक स्टेडियम में होने वाले राज्य स्तरीय स्वतंत्रता दिवस समारोह में शिरकत करेंगे। लुधियाना के इलावा इन नौजवानों की तरफ से जिला श्री अमृतसर साहब, चंडीगड़, पटियाला, शहीद भगत सिंह नगर, रूपनगर, होशियारपुर, जालंधर, श्री फतेहगढ़ साहब और मुहाली के महत्वपूर्ण स्थानों और अपने पुर्वजों के स्थानों का दौरा किया जाना है। पुरखों के स्थानों का दौरा करने दौरान वह अपने परिवार के सदस्यों, दोस्तों, माँ बाप और बुजुर्गों के रिश्तेदारों को मिलेंगे, जिससे उन्हें अपने पुरखों की जड़ों के साथ जुड़ने का मौका मिलेगा।
यह जिक्रयोग्य है कि मुख्य मंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने सितम्बर, 2017 को लंदन से ’अपनी, जड़ों के साथ जुड़ो’ प्रोगराम की शुरुआत की थी। दो सप्ताह के प्रोगराम दौरान कभी भी मुल्क में न आने वाले भारतीय मूल के नौजवानों को अपने पुरखों की जड़ों के साथ जुड़ने का मौका देने की कोशिश की

Leave a Reply

Your email address will not be published.