एक्साईज़ विभाग की टीम ने कांग्रेसी आगू सुखा फोलड़ीवाल के खूह पर की छापेमारी 350 पेटी अवैध शराब बरामद,भाई काबू

MPD Webnews जालंधर (सुख):- पंजाब के बड़े नेता का संरक्षण प्राप्त फोलड़ीवाल गांव में सुखा फोलड़ीवाल के खूह पर से टाटा सफारी, मेहन्द्रा पिकप, ट्रैक्टर ट्राली सहित विभिन्न जगहों पर छिपा कर रखी गई करीब 350 पेटी के करीब अवैध शराब बरामद की गई है। जालंधर डिवीजन के डिवीजनल एक्साईज एंड टैक्सेशन कमिश्रनर जसपिंदर सिंह के नेतृत्व में सहायक आबकारी एंव कर कमिश्रनर डीएस गरचा व ईटीओ एक्साईज़ जालंधर टू नीरज शर्मा, एक्साईज ईटीओ वन दीवान चंद के साथ विभाग के इंसपेक्टर गौतम, गोबिंद,दीपक शर्मा,सुनील कंडा,राममुर्ती,रमन भगत ने छापामारी को अंजाम दिया है।

उल्लेखनीय है कि सुक्खा फोलड़ीवाल पर अवैध शराब की तस्करी के आरोप पिछले करीब 20 साल से लग रहे हैं। कांग्रेस के पूर्व सांसद के खासमखास रहे सुक्खा फोलड़ीवाल पिछले काफी समय से अवैध शराब का धन्धा कर रहे हैं। सरकार चाहे कोई भी हो, लेकिन सुक्खा फोलड़ीवाल की शराब कारोबार धड़ल्ले से फलफूल रहा है।

एक्साईज़ विभाग की टीम को सूचना मिली थी कि सुक्खा फोलड़ीवाल के संरक्षण में अवैध शराब की बड़ी खेप गांव मे विभिन्न स्थानों पर स्टोर की गई है। सूचना मिलते ही एक्साईज़ विभाग की टीम ने डीईटीसी जसपिंदर सिंह के नेतृत्व में विभाग के स्टाफ थाना जमशेर की पुलिस को साथ लेकर गांव फोलड़ीवाल में छापेमारी की। विभागीय सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार एक्साईज़ विभाग की टीम ने सुक्खा फोलड़ीवाल की जमीन से ट्रैक्टर ट्राली, मेहंद्रा पिकप, टाटा सफारी ज़ब्त की है। पता चला है कि ट्रैक्टर ट्राली मे लद्दे लकड़ी के बालन के नीचे से अवैध शराब, तिरपाल में छिपाई गई चंडीगढ़ व हिमाचल मार्का की टाटा सफारी में तथा मेंहद्रा पिकप में छिपाई गई अवैध शराब बरामद की। मौके से करीब 350 पेटीअवैध शराब ज़ब्त की।चंडीगढ़ व हिमाचल की थी अवैध शराब

जांच टीम के सूत्रों के मुताबिक बरामद की गई अवैध शराब चंडीगढ़ व हिमाचल से मंगवाई गई थी। चर्चा है कि इस एरिया में रोजाना अवैध शराब की खेप तस्करी कर लाई जाती है जालंधर के अासपास के ईलाकों में सप्लाई की जाती है।इस छापेमारी के दौरान कांग्रेसी नेता सुखविंदर सिंह सुखा फोलड़ीवाल के भाई सतविंदर सिंह सोनू पुत्र अमरीक सिंह वासी फोलड़ीवाल को पुलिस द्वारा मौके पर काबू कर लिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.