विधानसभा में पिस्टल लेकर पहुंचे BSP विधायक मनोज न्यांगली…..

सादुलपुर से बसपा विधायक मनोज न्यांगली की इस हरकत ने विधानसभा में सुरक्षा की स्थिति की पोल खोल दी है. बड़ा सवाल ये भी है कि मेटल डिटेक्टर से गुजरते समय भी हथियार क्यों पकड़ में नहीं आया.

राजस्थान विधानसभा में सोमवार को बसपा विधायक मनोज न्यांगली पिस्टल लेकर पहुंच गए. न्यांगली की इस हरकत से विधानसभा की सुरक्षा की पोल खुल गई. हालांकि, विधानसभा में विधायकों की सुरक्षा जांच नहीं होती. इतना ही नहीं न्यांगली दो घंटे तक पिस्टल के साथ विधानसभा की कार्यवाही में भी भाग लेते रहे. विधानसभा के सदन में जहां विधायकों को मोबाइल तक ले जाने की अनुमति नहीं है, वहां विधायक का पिस्टल के साथ सदन में बैठे रहना विधानसभा की सुरक्षा व्यवस्था पर गंभीर सवाल खड़े करता है.

सारे घटनाक्रम का खुलासा उस समय हुआ जब न्यांगली सदन से बाहर निकल रहे थे. दोपहर एक बजे के करीब विधानसभा के पश्चिमी दरवाजे पर जब वो मीडियाकर्मियों से बात कर रहे थे तो उस समय उनकी कमर पर पिस्टल टंगी हुई थी. मीडिया वालों ने जब इस बारे में उनसे सवाल किए तो वे सकपका गए. लेकिन ऐसा लग रहा है कि यह वाक्या कोई पहली बार नहीं हुआ होगा. इससे पहले भी वो पिस्टल के साथ विधानसभा में आते रहे होंगे.

गौरतलब है कि सादुलपुर से बसपा विधायक मनोज न्यांगली पर कुछ साल पहले हरियाणा की गैंग ने फायरिंग की थी. इस जानलेवा हमले में न्यांगली की आंख में गोली लगी थी. न्यांगली के भाई वीरेंद्र न्यांगली की भी गैंगवार के चलते हत्या हुई थी. इसी के चलते सरकार की ओर से न्यांगली को अतिरिक्त सुरक्षा भी दी गई है.

इस मामले में कार्रवाई का पूरा अधिकार विधानसभा अध्यक्ष के पास है. ऐसे में अब यह देखना दिलचस्प होगा कि न्यांगली पर क्या कार्रवाई होती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.